Dhara 144 kya hai. Section 144 in Hindi. धारा 144 कब लगता है

0

Dhara 144 kya hai:- दोस्तों, हमारे देश में जब कानून व्यवस्था अनियंत्रित हो जाती है तब प्रशासन के द्वारा व्यवस्था को नियंत्रित करने के लिए धारा 144 को लागू करना होता है। किंतु क्या आपको यह पता है कि भारत में धारा 144 कब लागू किया गया तथा इस धारा के अंतर्गत देश के नागरिकों को किन-किन प्रकार की प्रतिबंधों के अधीन रहना होता है? और क्या आप यह जानते हैं कि देश में धारा 144 को कौन लगा सकता है? कुछ लोग धारा 144 और कर्फ्यू में कंफ्यूज रहते हैं। आज के लेख के माध्यम से हम आपको धारा 144 और कर्फ्यू के मध्य अंतर स्पष्ट करेंगे। इस महत्वपूर्ण जानकारी को जानने के लिए हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Dhara 144 kya hai. Section 144 in Hindi. धारा 144 कब लगता है

Dhara 144 kya hai. Section 144 in Hindi

Best Study Material For Defence Aspirants

भारत में धारा 144 ब्रिटिश राज के समय से ही लागू किया जा रहा है। सर्वप्रथम 1861 में अंग्रेजी राज्य द्वारा पहली बार भारत में धारा 144 का इस्तेमाल किया गया। जिसके पश्चात भारत में स्वतंत्रता सेनानियों को रोकने के लिए बेहद महत्वपूर्ण उपकरण के रूप में किया गया। धारा 144, सीआरपीसी के तहत आने वाली शांति व्यवस्था स्थापित करने हेतु लगाई जाने वाली धारा है। इस धारा को निम्न विशेष परिस्थितियों में शांति व्यवस्था को स्थापित करने के लिए लगाया जाता है। (Dhara 144 kya hai)

  • जिले या राज्य में दंगा फसाद होने पर।
  • राज्य अथवा जिले के किसी क्षेत्र में लूटपाट होने पर।
  • जिले या राज्य में हिंसा एवं मारपीट को रोकने के लिए।
  • आगजनी जैसी परिस्थिति होने पर।

ऐसी विशेष परिस्थितियों के आने पर राज्य तथा जिले में शांति व्यवस्था पुनः स्थापित करने के लिए धारा 144 लगाई जाती है।

ख़िलाफ़त आंदोलन क्या है ?Khilafat Movement, सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में।

धारा 144 कौन लागू करता है?

देश के जिलों तथा राज्यों में धारा 144 को लागू करने की जिम्मेदारी जिला मजिस्ट्रेट अर्थात जिला अधिकारी के पास होता है। इस धारा को लगाने से पहले जिला अधिकारी द्वारा एक लिखित रूप से अधिसूचना जारी की जाती है। जिसके बाद धारा 144 तनाव पूर्ण इलाकों में लागू कर दी जाती है। धारा 144 को किसी तनावपूर्ण इलाके में पारित करने के लिए जिला मजिस्ट्रेट द्वारा एक लिखित अधिसूचना देनी होती है। इस धारा को लागू करने से पहले कार्यकारी मजिस्ट्रेट को यह सुनिश्चित करना होता है कि क्या उस इलाके में धारा 144 लगाने की आवश्यकता है अथवा नहीं। इसके लिए जिला मजिस्ट्रेट को इलाके के कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों की आवश्यकता होती है। चीन का अवलोकन करने के पश्चात धारा 144 लागू कर दी जाती है।

Related Posts
1 of 272

धारा 144 लागू होने पर क्या होता है? (Dhara 144 kya hai)

यदि किसी इलाके में सीआरपीसी की धारा 144 लागू हो जाती है तो उस इलाके मैं रहने वाले लोग 5 या उससे अधिक किसी एक स्थान पर नहीं रह सकते। इसके अतिरिक्त क्षेत्र में हथियारों को लाने अथवा ले जाने पर पूर्ण रुप से रोक लगा दी जाती है। कभी-कभी यदि परिस्थिति बेहद गंभीर होती है तो प्रशासन द्वारा उस क्षेत्र के व्यक्तियों को बाहर घूमने पर भी प्रतिबंध लगा दिया जाता है। इन प्रतिबंधों के अतिरिक्त प्रभावित क्षेत्र के यातायात ओं को कुछ समय के लिए रोक दिया जाता है। यदि कोई आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 144 को तोड़ने की कोशिश करता है, तो पुलिस प्रशासन द्वारा उसे दंडनीय अपराध के रूप में दंड दिया जाता है। दंडनीय अपराध के रूप में, धारा 144 के उल्लंघन करने वाले व्यक्ति को अधिकतम 3 वर्ष की सजा और साथ ही जुर्माना देना होता है।

धारा 144 की अवधि कितनी होती है? (Dhara 144 kya hai)

किसी प्रभावित इलाकों में लगाए जाने वाले अपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 144 को स्थिति के अनुसार अलग-अलग अवधि तक लागू किया जा सकता है। धारा 144 लागू होने एवं उन की अवधि निम्न प्रकार की है।

  • सामान्यता धारा 144 केवल 2 महीनों की अवधि के लिए वैध होता है।
  • स्थिति सामान्य होने पर राज्य सरकार द्वारा इस वैधता को 2 महीने और अधिकतम 6 महीने तक बढ़ा सकती है।
  • यदि समय से पूर्व स्थिति सामान्य हो जाती है तो इस धारा को समय से पूर्व भी हटा लिया जाता है।

धारा 144 और कर्फ्यू में अंतर (Dhara 144 kya hai)

कुछ व्यक्ति धारा 144 और कर्फ्यू को एक समान मानते हैं। आज हम आपको इन दोनों प्रशासनिक तथ्यों के मध्य अंतर स्पष्ट करने की कोशिश कर रहे हैं। जिससे आपको कर्फ्यू और धारा 144 के मध्य अंतर स्पष्ट होगा।

धारा 144कर्फ्यू
धारा 144 जिला मजिस्ट्रेट के आदेश के पश्चात लागू किया जाता है।कर्फ्यू किसी शहर में हिंसक अवस्था होने पर पुलिस प्रशासन द्वारा भी लागू किया जा सकता है।
इस स्थिति में प्रभावित क्षेत्र के किसी भी व्यक्ति को चार से पांच की झुंड में एकत्र नहीं होने दिया जाता।इस स्थिति मे किसी भी प्रकार से व्यक्तियों को एकत्र नहीं होने दिया जाता।
धारा 144 लागू होने पर क्षेत्र के इंटरनेट की सेवा बंद कर दी जाती है।कर्फ्यू लगने पर क्षेत्र के कुछ जरूरतमंद वस्तुओं के लिए बाजार एवं स्कूल को खोला जा सकता है।
इस स्थिति में यातायात के साधनों को कुछ समय के लिए रोका जाता है।कर्फ्यू लगने पर, क्षेत्र में यातायात पूर्ण रुप से बंद हो जाता है।
Dhara 144 kya hai

प्रशासन द्वारा लगाए जाने वाले कर्फ्यू, धारा 144 का बड़ा रूप होता है। अर्थात कर्फ्यू को लागू करने से पूर्व उस क्षेत्र में धारा 144 का लगना अनिवार्य है।

दोस्तों, आज के लेख में हमने आप सुधार 144 के बारे में जानकारी प्रदान की। आशा करते हैं आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। आप अपनी राय हमारे कमेंट बॉक्स एक्शन में जरूर बताएं। और इस जानकारी को अन्य लोगों तक अवश्य शेयर करें।