भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय-कार्य की सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय-Hello Readers आज हम आप सभी के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी share कर रहे हैं यह जानकारी “भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय” से सम्बंधित जानकारी है| जो छात्र इस सब्जेक्ट से सम्बंधित विभिन्न प्रकार के प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी  कर  रहे हैं उन सभी के लिए आज का हमारा यह post बहुत ही Helpful साबित होगा| आप सभी की जानकारी की लिए हम बता दें की भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय सेम्बंधित परीक्षाओं में प्रश्न पूछे जाते हैं| आप सभी को हम यह PDF Notes Download करने का Link नीचे दे रहा हैं आप आसानी के साथ download कर सकते हैं|

भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय

  • कोलकाता में एशियाटिक सोसाइटी की स्थापना के समय बंगाल का गवर्नर जनरल था- लार्ड वारेन हेस्टिंग्स
    ‘सुरक्षा प्रकोष्ठ’ की नीति संबंधित है – वारेन हेस्टिंग्स
  • बंगाल में द्वैध शासन प्रणाली (Dual Government) को समाप्त किया- वारेन हेस्टिंग्स
  • वह गवर्नर जनरल जिस पर ब्रिटिश संसद में महाभियोग का मुकदमा चलाया गया था- वारेन हेस्टिंग्स
  • भारत में न्यायिक संगठन की स्थापना की- लार्ड कार्नवालिस ने
  • वह गवर्नर जनरल जिसने भारत की प्रसंविदाबद्ध सिविल सेवा (कोवेनैन्टेड सिविल सर्विस ऑफ इंडिया) का सृजन किया जो कालांतर में भारतीय सिविल सेवा के नाम से जानी गई- कार्नवालिस
  • लार्ड कार्नवालिस की कब्र स्थित है- गाजीपुर में
  • 1802 ई. की ‘बसीन की संधि’ पर हस्ताक्षर हुए थे- अंग्रेज तथा बाजीराव II के मध्य
  • लार्ड वेलेजली की सहायक संधि को स्वीकार करने वाला पहला मराठा सरदार था- पेशवा बाजीराव II
  • सहायक संधि को क्रियान्वित किया गया- लार्ड वेलेजली के काल में
  • सहायक संधि व्यवस्था को स्वीकार करने वाला प्रथम भारतीय देसी शासक था- हैदराबाद के निजाम
  • हैदराबाद, मैसूर, अवध तथा सिंधिया में लॉर्ड वेलेजली के साथ सहायक संधि करने वाले राज्यों का सही कालानुक्रम है- हैदराबाद, मैसूर, अवध तथा सिंधिया
  • सहायक संधि को स्वीकार करने वाला पहला शासक था- अवध का नवाब
    नोट- यह प्रश्न में वेलेजली की सहायक संधि को स्वीकार करने वाले प्रथम राज्य के बारे में पूछा जाए तो उत्तर हैदराबाद होगा|
  • हैदराबाद के निजाम, इंदौर के होलकर राज्य, जोधपुर के राजपूत राज्य तथा मैसूर के शासक में से ‘सहायक संधि’ स्वीकार नहीं की थी- इंदौर के होलकर राज्य ने
  • भारतीय राज्यों पर अंग्रेजी प्रभुत्व स्थापित करने के लिए प्रशासन में सहायक संधि प्रणाली का सूत्रपात किया- लार्ड वेलेजली ने
  • ईस्ट इंडिया कंपनी का राजपूत राज्यों में सहायक संधि करने का मुख्य उद्देश्य था – अंग्रेजों की प्रभुसत्ता स्थापित करना
  • उस समय जब नेपोलियन की शक्ति के सामने यूरोप में साम्राज्य धराशाई हो रहे थे, तत्कालीन समय में वह ब्रिटिश गवर्नर जनरल जिसने भारत में ब्रिटिश पताका फहराए रखी- लार्ड वेलेजली
  • आंग्ल- नेपाल युद्ध किसके शासनकाल में हुआ था वह है- लॉर्ड हेस्टिंग्स
  • तृतीय आंग्ल-मराठा युद्ध संबंधित है- लॉर्ड हेस्टिंग्स से
  • सर टॉमस मुनरो मद्रास के गवर्नर रहे- 1820- 1827 ई. तक
  • तथाकथित कुशासन के आधार पर किस गवर्नर जनरल ने मैसूर राज्य के प्रशासन को ले लिया था, वह था- लॉर्ड विलियम बेंटिक

About PDF: भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय

  • Book Name: भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय
  • Size: 309 KB
  • Pages: 11
  • Quality: Excellent
  • Format: PDF
  • Sharing Credits: Arihant Academy

भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय Live View

You May Also Like This

Friends, if you need an eBook related to any topic. Or if you want any information about any exam, please comment on it. Share this post with your friends in social media. To get daily information about our post please like my facebook page. You can also join our facebook group.

Disclaimer: Sarkari Book does not own this book, neither created nor scanned. We just provide the link already available on the internet. If anyway it violates the law or has any issues then kindly mail us: [email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here