भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय-कार्य की सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय-Hello Readers आज हम आप सभी के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी share कर रहे हैं यह जानकारी “भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय” से सम्बंधित जानकारी है| जो छात्र इस सब्जेक्ट से सम्बंधित विभिन्न प्रकार के प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी  कर  रहे हैं उन सभी के लिए आज का हमारा यह post बहुत ही Helpful साबित होगा| आप सभी की जानकारी की लिए हम बता दें की भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय सेम्बंधित परीक्षाओं में प्रश्न पूछे जाते हैं| आप सभी को हम यह PDF Notes Download करने का Link नीचे दे रहा हैं आप आसानी के साथ download कर सकते हैं|

भारत के गवर्नर जनरल तथा वायसराय

  • कोलकाता में एशियाटिक सोसाइटी की स्थापना के समय बंगाल का गवर्नर जनरल था- लार्ड वारेन हेस्टिंग्स
    ‘सुरक्षा प्रकोष्ठ’ की नीति संबंधित है – वारेन हेस्टिंग्स
  • बंगाल में द्वैध शासन प्रणाली (Dual Government) को समाप्त किया- वारेन हेस्टिंग्स
  • वह गवर्नर जनरल जिस पर ब्रिटिश संसद में महाभियोग का मुकदमा चलाया गया था- वारेन हेस्टिंग्स
  • भारत में न्यायिक संगठन की स्थापना की- लार्ड कार्नवालिस ने
  • वह गवर्नर जनरल जिसने भारत की प्रसंविदाबद्ध सिविल सेवा (कोवेनैन्टेड सिविल सर्विस ऑफ इंडिया) का सृजन किया जो कालांतर में भारतीय सिविल सेवा के नाम से जानी गई- कार्नवालिस
  • लार्ड कार्नवालिस की कब्र स्थित है- गाजीपुर में
  • 1802 ई. की ‘बसीन की संधि’ पर हस्ताक्षर हुए थे- अंग्रेज तथा बाजीराव II के मध्य
  • लार्ड वेलेजली की सहायक संधि को स्वीकार करने वाला पहला मराठा सरदार था- पेशवा बाजीराव II
  • सहायक संधि को क्रियान्वित किया गया- लार्ड वेलेजली के काल में
  • सहायक संधि व्यवस्था को स्वीकार करने वाला प्रथम भारतीय देसी शासक था- हैदराबाद के निजाम
  • हैदराबाद, मैसूर, अवध तथा सिंधिया में लॉर्ड वेलेजली के साथ सहायक संधि करने वाले राज्यों का सही कालानुक्रम है- हैदराबाद, मैसूर, अवध तथा सिंधिया
  • सहायक संधि को स्वीकार करने वाला पहला शासक था- अवध का नवाब
    नोट- यह प्रश्न में वेलेजली की सहायक संधि को स्वीकार करने वाले प्रथम राज्य के बारे में पूछा जाए तो उत्तर हैदराबाद होगा|
  • हैदराबाद के निजाम, इंदौर के होलकर राज्य, जोधपुर के राजपूत राज्य तथा मैसूर के शासक में से ‘सहायक संधि’ स्वीकार नहीं की थी- इंदौर के होलकर राज्य ने
  • भारतीय राज्यों पर अंग्रेजी प्रभुत्व स्थापित करने के लिए प्रशासन में सहायक संधि प्रणाली का सूत्रपात किया- लार्ड वेलेजली ने
  • ईस्ट इंडिया कंपनी का राजपूत राज्यों में सहायक संधि करने का मुख्य उद्देश्य था – अंग्रेजों की प्रभुसत्ता स्थापित करना
  • उस समय जब नेपोलियन की शक्ति के सामने यूरोप में साम्राज्य धराशाई हो रहे थे, तत्कालीन समय में वह ब्रिटिश गवर्नर जनरल जिसने भारत में ब्रिटिश पताका फहराए रखी- लार्ड वेलेजली
  • आंग्ल- नेपाल युद्ध किसके शासनकाल में हुआ था वह है- लॉर्ड हेस्टिंग्स
  • तृतीय आंग्ल-मराठा युद्ध संबंधित है- लॉर्ड हेस्टिंग्स से
  • सर टॉमस मुनरो मद्रास के गवर्नर रहे- 1820- 1827 ई. तक
  • तथाकथित कुशासन के आधार पर किस गवर्नर जनरल ने मैसूर राज्य के प्रशासन को ले लिया था, वह था- लॉर्ड विलियम बेंटिक

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x
Scroll to Top