GK/GS UPSC

Indian Sociology | Bhartiya Smajshastra A Complete eBook PDF Notes in Hindi

Hello Friends दोस्तों हम आप सभी के लिए प्रतिदिन Competitive Exams से सम्बंधित विभिन्न जानकारियां और नोट्स आप सभी के साथ शेयर करते रहते हैं| दोस्तों आज इस पोस्ट के  माध्यम से आप सभी के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण पीडीऍफ़ नोट्स शेयर करने जा रहा हूँ जिसका नाम “Indian Sociology | Bhartiya Smajshastra A Complete eBook PDF Notes in Hindi” है| दोस्तों अगर आप सभी विभिन्न होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयारी कर रहे हैं तो आप सभी हमारे पोस्ट के द्वारा शेयर किया जा रहा यह नोट्स आप सभी डाउनलोड कर के एक बार अवश्य पढ़ें|

दोस्तों सभी इस नोट्स को नीचे दिए गये बटन  पर क्लिक कर के आसानी के साथ इस पीडीऍफ़ नोट्स को डाउनलोड कर सकते है| दोस्तों इस पीडीऍफ़ में आप सभी को क्या पढने को मिलेगा हम नीचे कुछ अंश इस पीडीऍफ़ नोट्स के शेयर कर रहे  हैं| सम्पूर्ण जानकारी के लिए आप नीचे  दिए गये बटन पर क्लिक कर के पीडीऍफ़ नोट्स को डाउनलोड कर लें|

Indian Sociology An Introduction| Bhartiya Smajshastra A Complete eBook

समाज की समस्याओं का अध्ययन के वैसे तो प्राचीन काल से ही होता रहा है, लेकिन समाज के क्रमबद्ध अध्ययन के लिए ‘समाजशास्त्र’ विषय के उदय को विशेष समय नहीं हुआ है| इसलिए इसे नए नवीन- सामाजिक विज्ञान माना जाता है|
‘समाजशास्त्र’ शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम अगस्ट कौन्त (Auguste Comte) ने 1829 में किया तब इसे उन्होंने ‘SOCIOLOGIE’ कहा था इसलिए अगस्ट कौन्त को ‘समाजशास्त्र’ का पिता (Father Of Sociology) कहा जाता है| उन्होंने इस विषय की कल्पना ‘फ्रांस की औद्योगिक’ क्रांति से उत्पन्न सामाजिक समस्याओं के अध्ययन के लिए की थी| कौन्त ने प्रारंभ में इस विषय को ‘SOCIAL PHYSICS’ कहा था

जान स्तुअर्ट्स मिल ले ‘सोसिओलाजी’ शब्द के स्थान पर ‘इथोलोजी’ (ETHOLOGY) सत्य के प्रयोग की बात कही तथा इस विषय को ‘दो भिन्न भाषाओँ की अवैध संतान’ की संज्ञा दी थी| लेकिन उनका यह सुझाव अमान्य कर दिया गया| समाजशास्त्र विषय की परिभाषा प्रारंभ से ही एक विवाद विषय रही है, इनक्लेस (INKLES) ने अपनी पुस्तक ‘What is Sociology’ में परिभाषा निर्धारित करने के तीन पथ बतलाएं हैं:

  • एतिहासिक मार्ग (Historical Path)
  • अनुभाविक मार्ग (Empirical Path)
  • विश्लेषणात्मक मार्ग (Analytical Path)

दोस्तों आप सभी इस के आगे की जानकारी को पढने को लिए नीचे पीडीऍफ़ नोट्स को देखें आप चाहें तो पीडीऍफ़  नोट्स में दी गयी जानकारी  यहीं पर पढ़ सकते हैं या तो अगर आप सभी चाहे तो इस नोट्स को डाउनलोड कर के आसानी के साथ पढ़ सकते हैं|

About PDF: Indian Sociology | Bhartiya Smajshastra A Complete eBook PDF Notes

  • Book Name: Indian Sociology | Bhartiya Smajshastra
  • Size: 8 MB
  • Pages: 414
  • Quality: Good
  • Format: PDF
  • Language:हिंदी
  • Sharing Credits: _

Indian Sociology | Bhartiya Smajshastra A Complete eBook- Live Preview

You May Also Like This

Friends, if you need an eBook related to any topic. Or if you want any information about any exam, please comment on it. Share this post with your friends in social media. To get daily information about our post please like my facebook page. You can also join our facebook group.

Disclaimer: Sarkari Book does not own this book, neither created nor scanned. We just provide the link already available on the internet. If anyway it violates the law or has any issues then kindly mail us: [email protected]

Leave a Comment

error: Content is protected !!