JRF Exam Full Detail in Hindi. Benefits of Qualifying JRF Exam.

0

JRF Exam Full Detail:- दोस्तों, आज हम बात कर रहे हैं यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन द्वारा शुरू की गई सबसे प्रसिद्ध योजनाओं में से एक ऐसी योजना जिसके द्वारा ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों को स्कॉलरशिप प्रदान की जाती है। आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको Junior Research Fellowship (JRF) क्या है और इस परीक्षा के लिए एक ग्रेजुएशन करने वाला छात्र कैसे आवेदन कर सकता है तथा जूनियर रिसर्च फैलशिप परीक्षा के क्या लाभ हैं इन विषयों पर विस्तार से बात करेंगे।‌ पहले इस Junior Research Fellowship (JRF) की परीक्षा का आयोजन सीबीएसई द्वारा किया जाता था लेकिन अब इस परीक्षा का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) द्वारा किया जाता है।

JRF Exam Full Detail in Hindi. Benefits of Qualifying JRF Exam.

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) की ओर से Junior Research Fellowship (JRF) की परीक्षा का आयोजन वर्ष में दो बार होता है। अर्थात इस फेलोशिप को उम्मीदवार जून और दिसंबर या जनवरी माह मैं भर सकते हैं। Junior Research Fellowship (JRF) पुरस्कार पाने के लिए उम्मीदवारों को नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के द्वारा बनाए गए मानको के योग्य होना आवश्यक है।

आज के इस लेख में हम आपको JRF Exam और उसके फेलोशिप के विषय में जानकारी दे रहे हैं। जीआरएस के तहत छात्रों को दिए जाने वाला पुरस्कार, एप्लीकेशन प्रक्रिया, फेलोशिप के कार्यकाल, आवश्यक योग्यताएं और भी बहुत कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां को नीचे उल्लेखित कर रहे हैं।

Best Study Material For Defence Aspirants

JRF Exam Full Detail – Overview

आयोजन कर्तानेशनल टेस्टिंग एजेंसी
फेलोशिप का नामJunior Research Fellowship (JRF) (JRF Exam)
आर्थिक सहायता की राशि28000 से ₹35000 तक की मासिक फैलोशिप
योग्यताएमफिल या पीएचडी में दाखिला
आयु सीमाअधिकतम 30 वर्ष
परीक्षा आयोजनसाल में में दो बार
आवेदन पत्र का प्रकारऑनलाइन (नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की आधिकारिक वेबसाइट पर)
JRF Exam Full Detail

JRF Exam Full Detail

अब हम आपको JRF Exam के लिए आवश्यक योग्यता मानदंड एवं JRF Exam फैलोशिप से होने वाले लाभ के विषय में विस्तार से जानकारी दे रहे हैं।

योग्यता मानदंड

Related Posts
1 of 69

JRF Exam में प्राप्त स्कोर का उपयोग अभ्यर्थी द्वारा एमफिल या पीएचडी डिग्री के पाठ्यक्रम में दाखिला लेने के लिए करते हैं। जिससे कि वे रिसर्च के कार्य को शुरू कर सकें। एमफिल या पीएचडी के लिए भारत के किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान में दाखिला प्राप्त करने के बाद ही उम्मीदवारों को JRF Exam फैलोशिप योजना के तहत आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। JRF Exam की परीक्षा के लिए योग्य होने हेतु, इच्छुक उम्मीदवारों को कुछ योग्यताओं की शर्तों का पालन करना होता है। योग्यता मानदंड के विषय में जानकारी विस्तृत रूप से नीचे दी जा रही है।

  • JRF Exam आवेदकों को यूजीसी से मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों या संस्थानों से मानविकी और सामाजिक विज्ञान, कंप्यूटर विज्ञान और एप्लीकेशन, इलेक्ट्रॉनिक विज्ञान आदि में कम से कम 55% अंकों के साथ उत्तीर्ण होना आवश्यक है।
  • अन्य वर्ग जैसे अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग और पीडब्ल्यूडी जैसे आरक्षित वर्गों से संबंधित अभ्यार्थियों के अंको में 5% की छूट दी जाती है।
  • ऐसे आवेदक जो मास्टर डिग्री या समकक्ष पाठ्यक्रम के अंतिम वर्ष में है और परीक्षा में शामिल हुए हैं वह भी प्रोविजनल प्रवेश के लिए योग्य माने जाते हैं। ऐसे उम्मीदवारों को न्यूनतम 55% (आरक्षित वर्ग के छात्रों के लिए 50%) के साथ उत्तीर्ण होने के बाद ही JRF Exam फैलोशिप की पुरस्कार राशि दी जाती है।
  • आवेदकों को आवश्यक अंको के प्रतिशत के साथ यूजीसी नेट रिजल्ट निकलने के तारीख से 2 साल के भीतर अपने मास्टर डिग्री को पूरा करना आवश्यक है। इस मानदंड में असफल होने वाले उम्मीदवार JRF Exam के लिए अयोग्य माने जाते हैं।
  • ट्रांसजेंडर वर्ग के अभ्यार्थियों को आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों की भांति ही छूट दी जाती है।
  • JRF Exam में आवेदन करने के लिए आवेदकों की अधिकतम आयु 30 वर्ष होनी चाहिए। जबकि आरक्षित वर्ग के आवेदकों एवं महिलाओं को 5 वर्ष की छूट दी जाती है।
  • ऐसे PhD धारक जिन्होंने सितंबर 1991 तक अपनी मास्टर डिग्री पास कर ली है उन्हें भी उनके कुल अंकों में से 5% की छूट दी जाती है।
  • रिसर्च का अनुभव रखने वाले अभ्यार्थी को भी उनकी आयु में अधिकतम 5 वर्ष की छूट दी जाती है। शर्त यह है कि उन्होंने पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री से संबंधित विषयों में रिसर्च करने के लिए अपना एक निश्चित समय व्यतीत किया है। LLM डिग्री धारक उम्मीदवारों को भी 3 वर्ष की छूट दी जाती है।

परीक्षा पैटर्न

JRF Exam फेलोशिप के आवेदन पत्र को भरने के बाद अभ्यार्थियों को JRF Exam की लिखित परीक्षा में शामिल होना होता है। जिसके लिए उम्मीदवार को एनपीए द्वारा आयोजित इस फेलोशिप परीक्षा के पैटर्न की जानकारी होना आवश्यक है।

  • JRF Exam की लिखित परीक्षा में 2 प्रश्न पत्र होते हैं। दोनों ही प्रश्न पत्र कंप्यूटर आधारित टेस्ट के रूप में आयोजित किए जाते हैं।
  • प्रथम प्रश्न पत्र में 50 प्रश्न होते हैं जबकि द्वितीय प्रश्न पत्र में 100 प्रश्न होते हैं। इस प्रकार JRF Exam की लिखित परीक्षा में कुल 150 प्रश्न पूछे जाते हैं।
  • अभ्यार्थी को परीक्षा के दोनों प्रश्न पत्रों के सभी सवालों को हल करना आवश्यक होता है
  • प्रश्न पत्र के सभी प्रश्न बहुविकल्पीय होते हैं तथा प्रत्येक प्रश्नों के 2-2 अंक निर्धारित होते हैं।
  • प्रथम प्रश्न पत्र में उम्मीदवारों से सामान्य प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं जिनमें उम्मीदवारों के शिक्षण/रिसर्च योग्यता का मूल्यांकन करने के लिए प्रश्न होते हैं। द्वितीय प्रश्न पत्र में उम्मीदवार के द्वारा चयनित किए गए विषय से संबंधित प्रश्न होते हैं।

Benefits of Qualifying JRF Exam.

जब एक उम्मीदवार JRF Exam की परीक्षा को क्वालीफाई करता है और एनफील्ड या पीएचडी डिग्री पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेता है तो उसे JRF Exam योजना के तहत 2 वर्षों के लिए आर्थिक मदद दी जाती है। Junior Research Fellowship (JRF) के रूप में 2 वर्ष पूर्ण होने के पश्चात उम्मीदवारों के रिसर्च कार्य का मूल्यांकन विशेषज्ञों द्वारा किया जाता है। मूल्यांकन का परिणाम संतोषजनक होने पर रिसर्च छात्रों के कार्यकाल को सीनियर रिसर्च फैलशिप के रूप में आगे बढ़ा दिया जाता है। जिसके बाद उम्मीदवार को 3 वर्षों तक और फेलोशिप प्रदान की जाती है। इस प्रकार से JRF Exam और एसआरएफ को मिलाकर कुल 5 वर्षों की अवधि तक फेलोशिप प्रदान की जाती है। फेलोशिप के अंतर्गत उम्मीदवार को निम्नलिखित लाभ प्राप्त होते हैं।

  • JRF Exam के रूप में काम करने वाले रिसर्च छात्रों को 2 वर्षों के लिए प्रतिमाह ₹28000 तक दिया जाता है।
  • JRF Exam से सीआरएफ होने पर उम्मीदवार को अगले 3 वर्षों के लिए प्रतिमाह ₹35000 दिया जाता है।
  • यदि उम्मीदवार मानविकी और सामाजिक विज्ञान के क्षेत्र में एम फिल/पीएचडी मे रिसर्च करते हैं तो उन्हें शुरुआती 2 वर्षों के लिए ₹10000 प्रतिवर्ष और बाकी 3 वर्षों के लिए ₹21000 प्रतिवर्ष के आकस्मिक अनुदान दिया जाता है।
  • विज्ञान के क्षेत्र में एमफिल या पीएचडी करने वाले उम्मीदवार को शुरुआती 2 वर्षों के लिए ₹12000 प्रति वर्ष और बाकी 3 वर्षों के लिए ₹25000 प्रति वर्ष की आकस्मिक अनुदान दिया जाता है।
  • यदि कोई उम्मीदवार होस्ट संस्था के प्रति रिसर्च करता है तो उसे प्रति वर्ष ₹3000 रुपए की विभागीय सहायता प्रदान की जाती है।
  • इन सभी के अतिरिक्त शारीरिक रूप से विकलांग और नेत्रहीन अभ्यार्थियों को हर महीने ₹2000 का एस्कॉर्ट /रीडर सहायता दी जाती है।
  • JRF fellowship के अंतर्गत रिसर्च उम्मीदवारों को घर किराया भत्ता एवं अन्य लाभ के रूप में कुल मिलाकर प्रतिवर्ष ₹28000 से ₹35000 प्रति माह तक दिया जाता है।

दोस्तों, आज इसलिए हम आपको JRF Exam फैलोशिप (JRF Exam Full Detail) के जानकारी दी और फेलोशिप से प्राप्त होने वाले लाभों के बारे में जानकारी दें। आशा करते हैं आपको यह महत्वपूर्ण जानकारी पसंद आई होगी। इच्छुक उम्मीदवार अवश्य इस फेलोशिप के आवेदन पत्र को भरें और अपने रिसर्च तथा पाठ्यक्रम को पूर्ण करें।

Frequently Asked Question (FAQs)

  1. JRF Exam क्यों दी जाती है?
    उत्तर:- JRF Exam फैलोशिप उम्मीदवारों के रिसर्च कार्यक्रम को आगे बढ़ाने हेतु दिया जाने वाला अनुदान है। जिससे उम्मीदवार अपने पाठ्यक्रम एवं रिसर्च के कार्य को आगे बढ़ा सके।
  2. JRF Exam फैलोशिप के अंतर्गत उम्मीदवारों को कितना अनुदान दिया जाता है?
    उत्तर:- JRF Exam फैलोशिप के अंतर्गत उम्मीदवारों को 28000 से ₹35000 तक का अनुदान दिया जाता है।
  3. JRF Exam और SRF में क्या अंतर है?
    उत्तर:- JRF Exam ( Junior Research Fellowship (JRF) ) एमफिल या पीएचडी पाठ्यक्रम में दाखिला लेने हेतु दिया जाने वाला अनुदान है जबकि SRF पीएचडी के पश्चात रिसर्च करने हेतु दिया जाने वाला अनुदान है। (SRF अनुदान विभागीय विशेषज्ञों के द्वारा निरीक्षण के पश्चात ही दिया जाता है)
  4. JRF Exam फैलोशिप कौन आयोजित करवाता है?
    उत्तर:- JRF Exam फैलोशिप का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा किया जाता है।
  5. JRF Exam फैलोशिप की परीक्षा पैटर्न क्या है?
    उत्तर:- JRF Exam फैलोशिप की परीक्षा पैटर्न की जानकारी ऊपर लेख में विस्तारपूर्वक दी गई है।