List of satellite of India and specification (भारत के उपग्रह)

List of satellite of India and specification:- दोस्तों आज के लेख में हम आपको भारत के सेटेलाइट्स और उनकी विशेषताओं (List of satellite of India and specification) के बारे में जानकारी देंगे जैसा कि सभी को पता है कि हमारे भारत देश का सबसे पहला सेटेलाइट आर्यभट्ट है| किंतु जैसे-जैसे भारतीय स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (Indian Space Research Organisation-ISRO) ने नई तकनीकी का विकास किया है, और आवश्यकता अनुसार अनेक प्रकार के सेटेलाइट्स को बनाया है| उसे देखते हुए आज हमारे भारत के पास लगभग 118 स्पेस सैटेलाइट मौजूद है| भारत ने अलग-अलग समय पर आवश्यकता के अनुसार सात प्रकार के सैटेलाइट तैयार किए हैं, जो निम्न है

List of satellite of India and specification
  1. संचार माध्यम के लिए कम्युनिकेशन सेटेलाइट (communication satellite)
  2. पृथ्वी की भौगोलिक दशा जानने के लिए अर्थ ऑब्जर्वेशन(Earth observation satellite)
  3. दिशा निर्देश के लिए नेवीगेशन सेटेलाइट(navigation satellite)
  4. अंतरिक्ष विज्ञान के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए स्पेस साइंस सेटेलाइट(space science satellite)
  5. नई खोज करने वाले सैटेलाइट(experimental satellite)
  6. छोटे कार्यों में प्रयोग किए जाने वाले सैटेलाइट(small satellite)
  7. विश्वविद्यालयों एवं संस्थानों से जुड़े सेटेलाइट(universities/academic institute satellite)

अब हम आपको भारत के द्वारा तैयार किए गए इन सात प्रकार के सैटेलाइट के नाम एवं उनके विशेषताओं के बारे में जानकारी देंगे जो यूपीएससी(UPSC), एनडीए (NDA) आदि प्रकार के एक दिवसीय प्रतियोगिता परीक्षा में पूछे जाते हैं। दोस्तों आज का लेख आपके लिए महत्वपूर्ण होने वाला है इसलिए यह से अंत तक अवश्य पढ़ें।

Best Study Material For Defence Aspirants

संचार माध्यम(communication satellite)

भारत में संचार माध्यम स्थापित करने के लिए अभी तक भारतीय राष्ट्रीय उपग्रह(Indian national satellite-INSAT) की ओर से एशिया प्रशांत महासागर के क्षेत्रों में 41 उपग्रह छोड़े जा चुके हैं जो पृथ्वी के भु स्तरीय कक्षा में कार्य कर रहे हैं| भारतीय राष्ट्रीय उपग्रह प्रणाली ने इनसैट 1 बी (INSAT-1B) की शुरुआत 1983 में की थी| जिसके बाद भारत में संचार माध्यम में एक नई क्रांति ला दी और इसे लगातार बेहतर करती जा रही है वर्तमान समय में संचार उपग्रह निम्न है-

  • INSAT- 3A
  • INSAT – 3E
  • GSAT – 8
  • INSAT – 3C
  • INSAT- 4A
  • GSAT- 10
  • INSAT- 4 C.R.
  • GSAT- 12

specification(विशेषता):- INSAT, GSAT तथा K.U. बैण्‍डों में कुल 195 प्रेषानुकरों सहित यह प्रणाली दूर संचार, दूरदर्शन, प्रसारण, उपग्रह समाचार एकत्र करने, सामाजिक अनुप्रयोग, मौसम पूर्वानुमान, आपदा चेतावनी तथा खोज और बचाव कार्यों के लिए स्थापित की गई हैं|

List of satellite of India and specification

List of communication satellite

communication satellites namemass of satelliteLaunch Date
GSAT-303357 kg17 Jan 2020
GSAT- 312536 kg6 Feb 2019
INSAT- 4CR2,130 kg02, Sep 2007
GSAT -7A—–19 Dec 2018
GSAT- 115854 kg5 Dec 2018
INSAT – 4B3025 kg12, March 2007
GSAT – 293423 kg14 Nov 2018
GSAT – 6A—–29 March 2018
INSAT – 4A3081 kg22, Dec 2005
GSAT -193136 kg5 June 2017
GSAT -92230 kg5 May 2017
INSAT – 3E2,775 kg28, Sep 2003
GSAT – 183404 kg6 Oct 2016
GSAT – 62117 kg27 Aug 2015
INSAT – 3A2,950 kg10, April 2003
GSAT -163181.6 kg7 Dec 2014
GSAT -141982 kg5 Jan 2014
INSAT – 3C2,650 kg24, Jan 2002
GSAT -72650 kg30 Aug 2013
GSAT -83093 kg21 May 2011
INSAT – 3B2,070 kg22, March 2000
GSAT -103400 kg29 Sep 2012
GSAT -121410 kg15 July 2011
INSAT – 2E2,550 kg03, April 1999
GSAT -5P2310 kg25 Dec 2010
GSAT -42220 kg15 April 2010
INSAT – 2 D2079 kg04, June 1997
INSAT – 2C2106 kg07, Dec 1995
Kalpana – 11060 kg12, Sep 2002
INSAT – 2B1906 kg23, July 1993
INSAT – 2A1906 kg10, July 1992

Earth observation satellite (satellite of India)

वर्ष 1988 के IRS-1A से शुरूआत करते हुए ISRO ने पृथ्वी की भौगोलिक दशा जानने के लिए (Earth observation satellite) कई उपग्रहों की सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया है। आज, भारत के पास सबसे अधिक संख्‍या में पृथ्वी की भौगोलिक दशा जानने के लिए (Earth observation satellite) उपग्रहों का समूह है। वर्तमान में, 13, Earth observation satellite कक्षा में स्थापित हैं| जो निम्न हैं

  • RESOURCESET- 1 & 2
  • CARSOSET – 1 & 2, 2A, 2B
  • RESET- 1 & 2
  • OCEANSET – 2
  • Mrghatripix
  • SARAL
  • SCATSET – 1
  • INSET 3D
  • KALPANA
  • INSET 3A
  • INSET 3DR

भारत ने 7 जून 1979 से लेकर 27 नवम्बर 2019 तक में लगभग 37 Earth observation satellite स्थापित किये हैं।

specification(विशेषता):- देश में तथा वैश्‍विक उपयोग हेतु विभिन्‍न प्रयोगों की आवश्‍यकताओं को पूरा करने हेतु, अनेक प्रकार के विविधताओ के अध्ययन, स्‍पैक्‍ट्रमी तथा मौसम में परिवर्तन के बारे में जानकारी प्राप्‍त कर के उन आकड़ो को विभिन्‍न अनुप्रयोगों जैसे कृषि, जल संसाधन, शहरी योजना, ग्रामीण विकास, खनिज संभावना, पर्यावरण, वानिकी, समुद्री संसाधन तथा आपदा प्रबंधन में किया जाता है।

Navigation satellite:-(satellite of India)

Navigation satellite, एक वाणिज्यिक एवं सामरिक (Strategic) अनुप्रयोगों की प्रणाली पर आधारित उभरती हुई उपग्रह प्रणाली है। इसरो ने नागरिको की हवाई यात्रा की आवश्‍यकताओं, बढ़ती हुई मांगों को पूरा करने तथा स्‍वतंत्र उपग्रह Navigation प्रणाली पर आधारित प्रणाली, Navigation के समय का उपयुक्त होना जैसी आवश्‍यकताएं पूरा करने लिए Navigation satellite की सेवाएं मुहैया कराने के लिए इस प्रणाली की शुरुआत की है।

नागरिको की हवाई यात्रा की आवश्‍यकताओं को पूरा करने हेतु ISRO ने GPS से सम्बंधित Geo Augmented Navigation (GAGAN) प्रणाली की स्‍थापना करने के लिए भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण (AAI) के साथ संयुक्‍त रूप से कार्य कर रही है। स्‍वदेशी प्रणाली पर आधारित- positioning, navigation and timing जैसी सेवाओं की अवश्‍यकताओ को पूरा करने के लिए, इसरो ने भारतीय प्रादेशिक नौवहन उपग्रह प्रणाली(Indian Regional Navigation Satellite System (IRNSS)) नामक प्रादेशिक Navigation Satellite System की स्‍थापना कर रहा है।

  1. 1I- IRNSS
  2. 1H- IRNSS
  3. 1G- IRNSS
  4. 1F- IRNSS
  5. 1E- IRNSS
  6. 1D- IRNSS
  7. 1C- IRNSS
  8. 1B- IRNSS
  9. 1A- IRNSS

Specification(विशेषता):- इन Navigation Satellite का उपयोग दिशा निर्देश और दिशा निर्देश से सम्बंधित समय को बेहतर और मजबूत बनाए रखने के लिए लिया जाता हैं|

Space science satellite (satellite of India)

भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम में खगोल विज्ञान, तारो की स्थिति, ग्रहीय विज्ञान एवं भू विज्ञान, वायुमंडलीय विज्ञान एवं सैद्धांतिक भौतिक विज्ञान जैसे क्षेत्रों के अनुसंधान शामिल हैं। गुब्बारे(Balloons), अंतरिक्ष के आधार और भू-आधारित सुविधाएं, इन सभी के अध्ययन में सहायता करते हैं। विभिन्नं वैज्ञानिक उपकरण उपग्रहों पर विशेषकर, खगोलीय एक्सं-किरण एवं गामा किरण के विस्फोट को दिशा देने हेतु प्रक्षेपित किए गए हैं। ये निम्न हैं-

  • Astrosat (Launch- 28/09/2015)
  • Mars Orbiter Mission (MOM)- Launch – 5/11/2013
  • Chandrayan-1 (Launch – 22/10/2008)
  • SRE-1 -(Launch- 10/01/2007)
  • SROSS-C2- (Launch- 10/05-1994)
  • SROSS-C- (Launch- 20/05/1992)
  • SROSS-1- (Launch- 24/03/1987)

experimental satellite

इसरो ने परिक्षण हेतु कई छोटे उपग्रहों को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया है। ये परीक्षण निम्न है| Remote Sensing, वायुमंडलीय अध्ययन, Payload Development, कक्षा नियंत्रण (Orbit Controls), पुन:प्राप्ति प्रौद्योगिकी (recovery technology) आदि।

  • 1C-INS
  • 1B-INS
  • 1A-INS
  • YOUYHSAT
  • APPLE
  • Rohini Satellite
  • Rohini Technology Satellite
  • Aryabhata

small satellite (satellite of India)

ये ऐसे सॅटॅलाइट होते हैं, जो पृथ्वी के चारो ओर परिक्रमा करते है और वास्तविक समय के अनुसार पृथ्वी पर होने वाले गतिविधियों से अवगत कराते हैं|भारत ने अभी हाल के ही वर्षो में 2 small satellite को बनाया हैं जिनके नाम IMS-1 और IMS-2 Bus हैं| भारत के पास 2 small satellite मौजूद हैं-

  • Microsat (Launch- 12/01/2018)
  • YOUTHSAT (20/04/2011)

universities/academic institute satellite

ये ऐसे उपग्रह होते हैं जिनको ISRO द्वारा विश्वविद्यालयो और शिक्षण संस्थानों में पढ़ रहे छात्रो को उपग्रह से संभंधित ज्ञान और उपग्रह के निर्माण हेतु दिया जाता हैं|जिन पर छात्र शोध करके नये और बेहतर तकनीकी का उपयोग करके अच्छे उपग्रह बना सके|

satellite nameLaunch Date Weight
KalamsatJan 24, 20191.26 kg
NIUSATJun 23, 201715 kg
PISATSep 26, 20165.25 kg
SATHYABAMASATJun 22, 20161.5 kg
SWAYAMJun 22, 20161kg
SRMSATOct 12, 201110.9 kg
JugnuOct 12, 20113 kg
SATUDSATJul 12, 2010Less than 1 kg
ANUSATApr 20, 200940 kg
PRATHAMSep 26, 201610 kg

दोस्तों आज हमने आपको इसरो द्वारा बनाये गये उपग्रह और उनकी विशेषताओं (List of satellite of India and specification) के बारे में जानकरी दी| आशा करते हैं की आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी|आप हमारे कमेंट बॉक्स में जरुर बताये|