Liver Function in hindi|लिवर का क्या काम होता है।

Liver Function in hindi:- दोस्तों, हमारे शरीर में अनेक प्रकार की ग्रंथियां पाई जाती हैं| जो हमारे पाचन तंत्र की क्रियाओं (Liver Function) को सुचारू रूप से चलाने में मदद करते हैं| इन सभी ग्रंथियों में से एक महत्वपूर्ण ग्रंथि लीवर (Liver) भी है| लीवर (Liver), हमारे शरीर में अनेक पाचन तंत्र के रस तथा हारमोंस को उत्सर्जित करने में मदद करता है| आज के लेख में हम आपको लीवर के कार्य (Liver Function) एवं उनके संरचना के बारे में जानकारी देंगे| जीव विज्ञान से जुड़ी हुई अन्य जानकारियों के लिए आप हमारे साथ जुड़े रहे और यूपीएससी, एनडीए, सीडीएस, बैंक, रेलवे आदि प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर जानने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे।

Liver Function in hindi|लिवर का क्या काम होता है।

लीवर (liver in hindi), दाहिने भाग में पेट के ऊपरी भाग पर पाया जाता है| यह मानव शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथि होती है| जिसके अनेक कार्य (Liver Function) होते हैं, मानव शरीर में केवल इसी ग्रंथि के पास पुनर्निर्माण या पुनर्जन्म की क्षमता पाई जाती है।

लीवर की संरचना (Structure of Liver)

Best Study Material For Defence Aspirants

मानव शरीर में पाया जाने वाला लीवर त्रिकोणी तथा 2 लोग से बना होता है| जिसमें दाहिना हिस्सा लोब बड़ा और बाया हिस्सा लोब छोटा होता है। यह दोनों लोब एक पतली सी लिगामेंट के द्वारा अलग होते हैं जिसे फैंसी फोरम लिगामेंट कहते हैं। (Liver Function)

मानव लीवर के ऊपर तंतु ऊतक का कवर पाया जाता है| जिसे उनके Glisson’s capsule कहते हैं| यह कैप्सूल peritoneum के द्वारा ढका हुआ होता है| जो लीवर को चोट एवं क्षति से बचाने में मदद करता है। मानव शरीर में उपस्थित लीवर में दो मुख्य स्रोतों से रक्त का संचार होता है| जो निम्न है-

  • हैपेटिक पोर्टल वेन (Hepatic Portal Vein)- यहां परिसंचरण तंत्र लीवर मैं पाचन तंत्र से पौष्टिक तत्वों को लेकर आता है।
  • हैपेटिक आर्टरी (Hepatic Artery)- हैपेटिक आर्टरी हृदय से आक्सीकृत रक्त को लेकर लीवर तक पहुंचाता है।

लीवर के कार्य (Liver Function in hindi)

लीवर (Liver Function in hindi) के निम्न कार्य है| जो नीचे दिए गए हैं-

  • बाइल (Bile) का उत्पादन- लीवर के पास पाए जाने वाले Bile Duct से Bile का उत्पादन होता है| जो पाचन तंत्र में वसा, विटामिन और कोलेस्ट्रोल को पारित करने में मदद करता है।
  • बिलीरुबिन का अवशोषण- रक्त में हीमोग्लोबिन के टूटने से बिलुरुबिन का निर्माण होता है जो हिमग्लोबिन से आयरन को निकालकर लीवर में संग्रह करता है और नए रक्त कोशिकाओं को बनाने में मदद करता है।
  • रक्त का थक्का बनाने में मदद– Bile Duct के द्वारा विटामिन के का अवशोषण कर लिया जाता है| यदि Bile Duct विटामिन K का उत्पादन ना करें , तो रक्त के थक्का बनने की समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • वसा का उपापचय- Bile Duct से निकलने वाले Bile, वसा का संश्लेषण एवं उपापचय करते हैं| जिससे वसा आसानी से शरीर में पाचित हो जाता है।
  • कार्बोहाइड्रेट का उपापचय- लीवर में कार्बोहाइड्रेट ग्लाइकोजन के रूप में संचित होता है| जब ग्लाइकोजन टूटता है, तो यह ग्लूकोज के रूप में रक्त के साथ मिल जाता है और रक्त के ग्लूकोस लेवल को बनाए रखता है।
  • विटामिंस और मिनिरल्स का संग्रह- लीवर में vitamin A E,K & B12 संग्रहित होता है। लीवर में फेरिटिन (Fertine) के रूप में आयरन मौजूद होता है| जो नए रक्त कोशिकाओं को बनाने में मदद करता है।
  • प्रोटीन का उपापचय- Bile से निकलने वाले एंजाइम, प्रोटीन का उपापचय करने में मदद करते हैं।
  • रक्त को छानना- रक्त में हारमोंस, अल्कोहल आदि अन्य प्रकार के तत्व उपस्थित होते हैं। रक्त से इन सभी तत्व को छानने का कार्य लीवर करता है।
  • प्रतिरक्षा क्षमता बढ़ाने में- लीवर में कूपर कोशिकाएं (Kuffer cells) पाई जाती है| जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाने में मदद करती है| यह बाहर से आए सभी रोगाणु एवं विषाणु को मारने की क्षमता रखते हैं।
  • एल्ब्यूमिन (Albumin) का उत्पादन- लीवर की कोशिकाओं से एल्ब्यूमिन प्रवाहित होता है जो वसा अम्ल और स्प्राइट को नियंत्रित करता है जिससे रक्त वाहिकाओं में उचित दाम बना रहता है।
  • Aemniosensis का संश्लेषण- यह हारमोंस रक्त वाहिकाओं के संकुचन के लिए जिम्मेदार होता है| इनकी वृद्धि होने पर रक्तचाप में वृद्धि हो जाती है।
  • लीवर की पुनर्जन्म क्षमता- लीवर की कोशिकाओं में क्षति हुई कोशिकाओं को पुनः उत्पन्न करने की क्षमता होती है। यकृत में वृद्धि के दौरान वे अपनी कार्य करने की क्षमता नहीं खोते। मनुष्यों में लीवर पुनर्जन्म 8 से 15 दिनों में हो जाती है। किंतु चूहों में यह प्रक्रिया 5 से 7 दिनों के अंदर ही पूर्ण हो जाती है।

लीवर के रोग- (Disease of Liver &Liver Function)

  • Fascioliasis- यह एक परजीवी लीवर फ्लूक के कारण होता है| यह परजीवी कुछ महीनों या वर्षों तक यकृत में निष्क्रिय रूप से रहता है।
  • Cirrhosis / Sirosis -यह बीमारी शराब और विषाक्त पदार्थों के अधिक सेवन के कारण होती है| इस बीमारी में लीवर की कोशिकाएं तंतु के रूप में परिवर्तित हो जाती है| जिससे यकृत की कोशिकाएं कार्य (Liver Function) करना बंद कर देती है और लीवर फेल हो जाता है।
  • Hepatitis- हेपेटाइटिस वायरस के कारण होता है| जिसमें लीवर में सूजन आ जाती है |ज्यादातर मामलों में लीवर फेल हो जाता है| Hepatitis A, Hepatitis B तथा Hepatitis C इसके प्रकार होते हैं।
  • Fatty liver- शराब के अधिक सेवन के कारण लीवर की कोशिकाएं मोटी हो जाती है अर्थात लीवर की कोशिकाओं में वसा की मात्रा बढ़ जाती है।
  • Liver Cancer- शराब और हेपेटाइटिस के कारण लीवर कैंसर हो जाता है| लिवर कैंसर दो प्रकार के होते हैं। हैपेटॉसेल्यूलर कार्सिनोमा और cholangiocarcinoma, ये यकृत कैंसर के प्रकार है।

लिवर से जुड़ी रोचक बातें (Liver Function)

  • लीवर में पुनर्जन्म की अद्भुत क्षमता होती है, अर्थात यदि आपके लीवर का 75% भाग निकाल लिया जाए तो शेष 25% भाग नौ से 14 दिनों के भीतर यकृत के 75% को पूरा कर देता है।
  • चाचा के बाद शरीर का दूसरा सबसे बड़ा अंग यकृत है| जिसका वजन 1.3 से 1.5 किलोग्राम के मध्य होता है।
  • यकृत के 500 से अधिक कार्य हैं और अनेक कार्यों (Liver Function in hindi) की खोज अभी चल रही है|
  • यकृत की कोशिकाओं में रक्त का कुल 10% भाग उपस्थित होता है| यकृत प्रति घंटे अपनी कोशिकाओं में लगभग 84 लीटर रक्त पंप करता है।
  • लीवर कई प्रक्रियाओं को नियंत्रित करता है, और सीधे मस्तिष्क को प्रभावित करता है| यदि लीवर अमोनिया, ग्लूकोस आदि का नियमन ना करें तो हमारा शरीर कोमा में चला जाएगा।
  • लीवर केवल कशेरुकाओं में ही पाया जाता है| ब्लू व्हेल से लेकर चूहों तक सभी जीवो को जीवित रहने के लिए लीवर की भी आवश्यकता होती है।

दोस्तों यदि आप भी लीवर (Liver Function) से सम्बंधित ज्ञानवर्धक बातें जानना चाहते हैं| तो हमारे साथ जुड़े रहे यदि आज का आर्टिकल आपको अच्छा लगा तो आप अपनी राय हमारे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं तथा इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर करें।