विश्व का इतिहास-प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण PDF Notes

0

विश्व का इतिहास-Hello Readers आज आप सभी छात्र-छात्राओं के लिए हमने sarkaribook.com के द्वारा बनाई गयी बहुत ही महत्वपूर्ण PDF Notes आप सभी के लिए share कर रहे हैं | यह PDF Notes ‘विश्व का इतिहास’ से सम्बंधित है | इस PDF Notes में आप सभी को विश्व का इतिहास से related जितने भी घटनाएँ घटित हुई हैं उन सभी के बारे में Date के साथ इस Notes में  दर्शाया गया है | जो छात्र SSC CGL, UPSC जैसे बड़े प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं उन सभी के लिए आज का हमारा यह Post बहुत ही helpful हो होगा| आप सभी की जानकारी के लिए हम बता दें की यह PDF Notes पूरी तरह से हिंदी में दिया हुवा है अतः इस Notes को आसानी से अपनी भाषा में समझ सकते हैं | विश्व का इतिहास के इस PDF Notes को आप नीचे दिए गये Button पर क्लिक कर के download कर सकते हैं|

विश्व का इतिहास
विश्व का इतिहास

विश्व का इतिहास-पूरी जानकारी 

  • यूरोपीय पुनर्जागरण इटली से शुरू हुआ|
  • इटली का फ्लोरेंस नगर पुनर्जागरण का केंद्र था|
  • पुनर्जागरण का मुख्य लक्षण तार्किक बाद एवं मानवतावाद था|
  • पुनर्जागरण का बौद्धिक अर्थ आंदोलन है|
  • धर्म सुधार आंदोलन 16वीं सदी में शुरू हुआ|
  • धर्म सुधार आंदोलन के जनक मार्टिन लूथर किंग (जर्मनी) थे|
  • अमेरिका के मूल निवासियों को रेड इंडियन कहां जाता था|
  • अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम का तात्कालिक कारण बोस्टन की चाय पार्टी थी|
  • बोस्टन की चाय पार्टी का नेता सैमुअल ऐडम्स था|
  • अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम के समय ब्रिटिश सेनापति लार्ड कार्नवालिस था|
  • अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम का मुख्य नेता जॉर्ज वाशिंगटन था|
  • अमेरिका ने जुलाई 1776 ईस्वी में पूर्ण स्वतंत्रता की घोषणा की|
  • जॉर्ज वाशिंगटन अमेरिका के प्रथम राष्ट्रपति बने|
  • अमेरिका ने दास-व्यापार पर 1808 इ० में प्रतिबंध लगाया|
  • पूर्ण रूप से दास प्रथा का अब्राहम लिंकन ने 1863 ई० उन्मूलन में किया|
  • अमेरिकी राष्ट्रपति के निवास स्थान को वाइट हाउस कहते हैं|
  • फ्रांसीसी क्रांति से पूर्व फ्रांस में सामंती व्यवस्था थी|
  • फ्रांस की राज्यक्रांति लुई 16वें के शासन काल में 1789 ई० में हुई|
  • फ्रांसीसी क्रांति का नारा समानता, स्वतंत्रता एवं बंधुत्व था|
  • फ्रांसीसी क्रांति में वॉल्टेयर रूसो एवं मांटेस्क्यू जैसे दार्शनिकों का योगदान था|
  • नेपोलियन 1804 ईस्वी में फ्रांस का सम्राट बना|
  • सर्वप्रथम राष्ट्रवाद फ्रांस में (नेपोलियन बोनापार्ट द्वारा) विकसित हुआ|
  • आधुनिक फ्रांस का निर्माण नेपोलियन बोनापार्ट को कहा जाता है|
  • वाटरलू का युद्ध नेपोलियन और मित्र राष्ट्रों के बीच जून 1815 ई० में हुआ|
  • नेपोलियन को कैद कर सेंट हेलेना द्वीप पर भेज दिया गया|
  • नेपोलियन के पतन का कारण रूस पर आक्रमण करना था|
  • इटली राष्ट्र का जन्म 1807 ईस्वी में माना जाता है|
  • इटली का एकीकरण काउंट कावूर ने किया|
  • लाल कुर्ती नामक सेना का संगठन गैरबाल्डी ने किया|
  • जर्मनी का सबसे शक्तिशाली राज्य प्रशासन था|
  • जर्मनी का एकीकरण बिस्मार्क ने किया|
  • जर्मनी का एकीकरण सेडान की युद्ध के बाद संभव हुआ|
  • वैज्ञानिक समाजवाद का संस्थापक कार्ल मार्क्स था|
  • कार्ल मार्क्स जर्मनी का निवासी था|
  • दुनिया के मजदूरों एक होका नारा कार्ल मार्क्स ने दिया|
  • रूस के शासक को जार कहा जाता था|
  • रूस का अंतिम जार निकोलस द्वितीय था|
  • लाल सेना का गठन ट्राटस्की ने किया|
  • बोल्शेविक दल का नेता लेनिन था|
  • रूस में नई आर्थिक नीति लेनिन ने 1924 ईस्वी में लागू की|
  • आधुनिक रूस का निर्माता स्टालिन को कहा जाता है|
  • सर्वप्रथम औद्योगिक क्रांति इंग्लैंड में हुई|
  • इंग्लैंड की गौरवपूर्ण क्रांति रक्तहीन क्रांति 1688 ईस्वी में जेम्स द्वितीय के समय हुआ|
  • सप्तवर्षीय युद्ध इंग्लैंड और फ्रांस के बीच हुआ|
  • गुलाबों का युद्ध इंग्लैंड में हुआ|
  • मैग्नाकार्टा सर्वसाधारण के अधिकारों का घोषणा पत्र था|
  • प्रथम विश्वयुद्ध 28 जुलाई 1914 को शुरू हुआ|
  • प्रथम विश्वयुद्ध का तात्कालिक कारण साराजेवो हत्या कांड था|
  • प्रथम विश्व युद्ध में 37 देशों ने भाग लिया|
  • धुरी राष्ट्रों का नेतृत्व जर्मनी ने किया|
  • प्रथम विश्वयुद्ध 11 नवंबर 1918 को समाप्त हुआ|
  • पेरिस शांति सम्मेलन 18 जून 1919 को हुआ|
  • प्रथम विश्व युद्ध में सर्वाधिक हानि जर्मनी की हुई|
  • प्रथम विश्व युद्ध के बाद राष्ट्र संघ नामक (1924) अंतर्राष्ट्रीय संगठन की स्थापना हुई|
  • चीन की क्रांति 1911 ईस्वी में हुआ|
  • चीनी क्रांति का नेता सनयात सेन था|
  • चीन में बॉक्सर आंदोलन का नेता चे हेंग तिंग था|
  • चीनी साम्यवादी गणतंत्र का प्रथम अध्यक्ष माओत्से तुंग था|
  • आधुनिक तुर्की का निर्माता मुस्तफा कमाल पाशा को कहा जाता है|
  • तुर्की 23 अक्टूबर 1923 को गणतंत्र बना|
  • तुर्की गणतंत्र का प्रथम राष्ट्रपति मुस्तफा कमाल पाशा बना|
  • तुर्की 1924 ईस्वी में धर्मनिरपेक्ष राज्य बना|
  • फ़ासिज़्म का उदय इटली में हुआ|
  • फासीदल के स्वयंसेवक काली कमीज वाली पोशाक पहनते थे|
  • नाजीवाद का उदय जर्मनी में हुआ|
  • नाजीवाद का जनक हिटलर था|
  • हिटलर ने नाजी दल की स्थापना 1920 ईस्वी में की|
  • हिटलर 1933 ईस्वी में जर्मनी का प्रधानमंत्री बना है|
  • एक राष्ट्र एक नेता का नारा हिटलर का था|
  • हिटलर ने 30 अप्रैल 1945 को आत्महत्या की|
  • एशिया का देश जापान साम्राज्यवादी था|
  • जापान ने पहला आक्रमण चीन के विरुद्ध किया|
  • अमेरिका ने जापान पर अनुभवों का प्रयोग 6 अगस्त 1945 ईस्वी को हिरोशिमा पर किया|
  • द्वितीय विश्व युद्ध 1 सितंबर 1939 को शुरू हुआ|
  • द्वितीय विश्व युद्ध में 61 देशों ने भाग लिया|
  • पेट्रार्क को मानववाद का संस्थापक माना जाता है|
  • पेट्रार्क इटली का निवासी था|
  • इटालियन गद का जनक कहानीकार बोकेशियो (सन 1313-1375) को माना जाता है|
  • आधुनिक विश्व का प्रथम राजनीतिक चिंतक फ्लोरेंस निवासी मैकियावेली (सन 1469- 1967) को माना जाता है|
  • आधुनिक राजनीतिक दर्शन का जनक मैकियावली को कहा जाता है|
  • अमेरिका की खोज क्रिस्टोफर कोलंबस ने की थी|
  • अमेरिका बेस्पुसी (इटली) के नाम पर अमेरिका का नाम अमेरिका पड़ा|
  • 1781 ईस्वी में उपनिवेश शिवसेना के सम्मुख आत्मसमर्पण करने वाला ब्रिटेन का सेनापति लार्ड कार्नवालिस था |
  • अमेरिका विश्व का पहला देश था जिसने मनुष्यों की समानता तथा उसके मौलिक अधिकारों की घोषणा की|
  • मैं ही राज्य हूं और मेरे शब्द ही कानून है” यह कथन लुई चौदहवां का है|
  • लुई सोलहवां 1774 ई० में फ्रांस की गद्दी पर बैठा|
  • लुई सोलहवां की पत्नी मेरी एन्त्वानेत ऑस्ट्रिया की राजकुमारी थी|
  • लुई सोलहवां को देशद्रोह के अपराध में फांसी दी गई|
  • फ्रांसीसी क्रांति में वॉल्टेयर मांटेस्क्यू एवं पुरुषों ने सर्वाधिक योगदान किया|
  • वाल्टेयर चर्च का विरोधी था|
  • रूसो और फ्रांस में प्रजातंत्र आत्मक शासन पद्धति का समर्थक था|
  • सौ चूहों की अपेक्षा एक सिंह का शासन उत्तम है” या उक्ति वाल्टेयर की है|
  • स्टेट्स जनरल के अधिवेशन की शुरुआत 5 मई 1789 ईस्वी में हुई थी|
  • माप-तौल की दशमलव प्रणाली फ्रांस की देन है|
  • सांस्कृतिक राष्ट्रीयता का जनक हर्डन को कहा जाता है|
  • जर्मनी के आर्थिक राष्ट्रवाद का पिता फ्रेडरिक लिस्ट को माना जाता है|
  • जर्मनी राष्ट्रीय सभा को डायट के नाम से जाना जाता था या फ्रैंकफर्ट में होती थी|
  • 1815 ई० से 1550 ई० के बीच जर्मन साम्राज्य पर ऑस्ट्रेलिया का आधिपत्य था|
  • एकीकृत जर्मन राष्ट्र के निर्माण में राके,बोमर,लसर इत्यादि दार्शनिकों ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की|
  • फ्रैंकफर्ट संविधान सभा का गठन मई 1848 ईस्वी में किया गया|
  • विलियम प्रथम के शासनकाल में प्रशा का रक्षा मंत्री वानरून एवं प्रशा का सेनापति वान माल्टेक था|
  • 23 सितंबर 1862 ईसवी को बिस्मार्क प्रशा का चांसलर बना|
  • बिस्मार्क का जन्म 1 अप्रैल 1815 ई० को ब्रेडनवर्ग में हुवा था।
  • विलियम प्रथम ने बिस्मार्क को बाजीगर कहा था।
  • 30 अगस्त 1866 ई० के प्राग संघ के तहत ऑस्ट्रिया जर्मन संघ में शामिल हुआ।
  • फ्रांस एवं प्रशा के बीच सेडान का युद्ध 15 जुलाई 18 और 27 मई को हुआ।
  • नेपोलियन द्वितीय ने प्रशा के आगे 1 सितंबर 1870 को आत्मसमर्पण किया।
  • बिस्मार्क ने जर्मनी के सम्राट विलियम प्रथम का राज्यभिषेक वर्साय के राजमहल में किया।
  • समाजवाद शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम रॉबर्ट ओवेन ने किया था। यह वेल्स देश का रहने वाला था।
  • आदर्शवादी समाजवाद का प्रवक्ता राबर्ट ओवेन को माना जाता है।
  • फ्रांसीसी साम्यवाद का जनक सेंट साइमन को माना जाता है।
  • फेबियन सोशलिज्म का नेतृत्व जॉर्ज बर्नार्ड शॉ ने किया।
  • लंदन में फेबियन सोसाइटी की स्थापना 1884 ईस्वी में हुई।
  • रूस के शासक को “जार” कहा जाता था यह जारशाही व्यवस्था मार्च 1917 ईस्वी में समाप्त हुई।
  • रूस का अंतिम जार शासक जार निकोलस द्वितीय था।
  • 1917 ईस्वी में हुई रूसी क्रांति का तात्कालिक कारण प्रथम विश्व युद्ध में रूस की पराजय थी।
  • 7 नवंबर 1917 ईस्वी की बोल्शेविक क्रांति का नेता लेनिन था।
  • लेनिन ने चेका नामक संगठन बनाया था।
  • रूस के जार शासक एलेग्जेंडर द्वितीय की हत्या बम विस्फोट में हुई।
  • एक जार,एक चर्च और एक रूस का नारा जार निकोलस द्वितीय दिया था।
  • रूस में सबसे अधिक जनसंख्या स्लाव लोगों की थी।
  • अन्ना कैरेनिना के लेखक लियो टालस्टाय थे।
  • रूसी साम्यवाद का जनक प्लेखानोव माना जाता है।
  • सोशल डेमोक्रेटिक दल की स्थापना 1930 ईस्वी में रूस में हुई।
  • यह दल दो गुटों में विभाजित था बोल्शेविक तथा मेंशेविक।
  • बोल्शेविक का अर्थ बहुसंख्यकएवं मेंशेविक का अर्थ अल्पसंख्यकहोता है।
  • बोल्शेविक दल का नेता लेनिन था।
  • 16 अप्रैल 1917 ईस्वी को लेनिन ने रूस में क्रांतिकारी योजना प्रकाशित की, जो अप्रैल थीसिसके नाम से जाना जाता है।
  • 1921 ईस्वी में लेनिन ने रूस में नई आर्थिक नीति लागू की।
  • लेनिन की मृत्यु 1924 ईस्वी में हो गई।
  • राइट्स ऑफ मैनके लेखक टोमस पेन थे।
  • इंग्लैंड में औद्योगिक क्रांति की शुरुआत सूती कपड़ा उद्योग से हुई।
  • औद्योगिक क्रांति के दौरान निम्न आविष्कार हुए:
  • सबसे पहले स्कॉटलैंड के मैकेडम नामक व्यक्तियों ने पक्की सड़कें बनाने की विधि निकाली।
  • 1761 ईस्वी में ब्रिंद्ले नामक इंजीनियर ने मैनचेस्टर से वर्षले तक नाहर बनाई।
  • 1814 ईस्वी जॉर्ज स्टीफेंसन ने रेल के द्वारा खानों से बंदरगाहों तक कोयला ले जाने के लिए भाप इंजन का प्रयोग किया।
  • औद्योगिक क्रांति की दौड़ में जर्मनी इंग्लैंड का प्रतिद्वंदी था।
  • डॉक्टर सनयात सेन को चीन का राष्ट्रपति कहा जाता है।
  • डॉक्टर सनयात सेन की मृत्यु 1925 ईस्वी में हो गई।
  • 1927 ईस्वी में कुओमिंतंग पार्टी से साम्यवादी लोग अलग हुए।
  • चीन में गृह युद्ध 1928 ईस्वी में शुरू हुआ।
  • 1925 ईस्वी में यूनान के विशाल किसान आंदोलन का नेतृत्व माओत्से तुंग ने किया।
  • माओत्से तुंग का जन्म 1893 ईस्वी में हुनान में हुआ था।
  • चीन के जनवादी गणराज्य की राजधानी हुनान थी।
  • खुले द्वार की नीति चीन में अपनाई गई थी।
  • चीन के द्वार खोलने का श्रेय ब्रिटेन को दिया जाता है।
  • खुले द्वार की नीति का प्रतिपादक जॉन “हे” था।
  • चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना 1921 ईस्वी में हुई।
  • 1863 ई० में एक अमेरिकी नाविक पेरी ने बल प्रयोग कर जापान का द्वार अमेरिकी व्यापार के लिए खोला।
  • जापान में आधुनिकीकरण की प्रक्रिया की शुरुआत मूतसुहीतो ने की।
  • 1875 ईस्वी में जापान से सैनिक सेवा अनिवार्य कर दी गई।
  • 1955 में जापान ने रूस को हराया।
  • जापान-रूस युद्ध की समाप्ति 5 सितंबर 1905 को पार्ट्समाउथ की संधि के द्वारा हुई।
  • जापान ने 1931 ईस्वी में अपनी साम्राज्यवादी आकांक्षाओं की मूर्ति के लिए मंचूरिया पर आक्रमण किया।
  • 20 मार्च 1933 ईस्वी को जापान ने राष्ट्र संघ की सदस्यता त्याग दी।
  • पीत आतंक से जापान को संबोधित किया जाता था।
  • द्वितीय विश्व युद्ध में जापान ने धुरी राष्ट्र का साथ दिया था।
  • द्वितीय विश्व युद्ध में 10 सितंबर 1945 ईस्वी को जापान ने आत्मसमर्पण किया।
  • हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराए जाने के कारण जापान ने तृतीय विश्व युद्ध में आत्मसमर्पण किया था।
  • द्वितीय विश्वयुद्ध का तात्कालिक कारण जर्मनी का पोलैंड पर आक्रमण था।
  • स्पेन में गृह युद्ध 1936 ईस्वी में शुरू हुआ।
  • संयुक्त रूप से इटली एवं जर्मनी का पहला शिकार स्पेन हुआ।
  • जर्मनी की ओर से द्वितीय विश्व युद्ध में 10 जून 1946 ईस्वी को इटली ने प्रवेश किया।
  • अमेरिका का द्वितीय विश्व युद्ध में प्रवेश 8 सितंबर 1941 ईस्वी को हुआ।
  • अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्र में द्वितीय विश्व युद्ध का सबसे बड़ा योगदान संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना है।

तो दोस्तों आज की हमारी ‘विश्व का इतिहास’ की पोस्ट कैसी लगी आप को आप हमें कमेंट के माध्यम से भी बता सकते हैं | आप इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ social media में share जरुर करें आप के share करने से उनका भी भला हो सकता है| आप को पोस्ट अच्छी लगी तो like जरुर करें | हमारी कोसिस है की हम आप सभी छात्रों के लिए एसे ही महत्वपूर्ण PDF Notes उपलब्ध कराते रहे|

 विश्व का इतिहास LiveView

About PDF: विश्व का इतिहास

  • Book Name: विश्व का इतिहास
  • Format: PDF
  • Language: Hindi
  • Size: 390 KB
  • Quality: Excellent

You may also like this

Friends, if you need an eBook related to any topic. Or if you want any information about any exam, please comment on it. Share this post with your friends in social media. To get daily information about our post please like my facebook page. You can also joine our facebook group.

Disclaimer : Sarkari Book does not own this book, neither created nor scanned. We just providing the link already available on internet. If any way it violates the law or has any issues then kindly mail us: sarkaribook.com@gmail.com